/राहुल गांधी और सीताराम येचुरी की बड़ी मुश्किलें

राहुल गांधी और सीताराम येचुरी की बड़ी मुश्किलें

लोकसभा चुनाव नजदीक है। इस दौरान सभी राजनीतिक पार्टियां आम जनता को अपने और खींचने में दम खम लगा रहे है। इस बीच कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी और माकपा नेता सीताराम येचुरी की मुसीबत बढ़ गई है। ठाणे की एक अदालत ने दोनों को 30 अप्रैल को अदालत के सामने पेश होने को कहा है।

A Thane court has summoned Congress’s Rahul Gandhi and CPIM leader Sitaram Yechuri to be present in court on 30th April in a civil defamation suit filed by an RSS activist Vivek Champanerkar. He has filed the suit against them for alleging RSS hand in Gauri Lankesh murder.

— ANI (@ANI) April 3, 2019

 

दरअसल पत्रकार गौरी लंकेश हत्याकांड से कथित तौर पर आरएसएस को जोड़कर उसे बदनाम करने के आरोपों पर जवाब देने के लिए राहुल गांधी और माकपा के महासचिव सीताराम येचुरी को 30 अप्रैल को अदालत के सामने पेश होने को कहा है। सिविल मानहानि मामले में राहुल गांधी और येचुरी से नुकसान भरपाई के तौर पर एक रूपये की मांग की गयी है। राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के कार्यकर्ता विवेक चंपानेरकर का दावा है कि दोनों नेताओं ने लंकेश की हत्या से जोड़कर आरएसएस को बदनाम किया है।

अदालत में दायर अपनी याचिका में चंपानेरकर ने कहा है कि हिंसा की किसी भी घटना के लिए आरएसएस को दोषी ठहराना राहुल और येचुरी की आदत है और इसे रोके जाने की जरूरत है। बता दें कि चंपानेरकर के वकील आदित्य आर मिश्रा ने कहा कि उनके मुवक्किल ने पिछले सप्ताह दोनों नेताओं के खिलाफ अदालत में याचिका दायर की थी।

बता दें कि आरएसएस की मानहानि को लेकर कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी के खिलाफ़ दर्ज मामले में पिछले साल जून 2018 में भिवंडी की अदालत में आरोप तय हो चुके हैं। मानहानि की धाराओं के तहत राहुल पर आरोप तय किए गए हैं। इससे पहले पेशी के दौरान राहुल गांधी ने ख़ुद को बेक़सूर बताया था। संघ के एक कार्यकर्ता ने मार्च 2014 में आपराधिक मानहानि का मुक़दमा दर्ज कराया था।